TRETA

Chapter 3.0 (continued)

Shiva loka

यस्यग्य जगत सृष्टा विरंचिः पल्को हरिः

संहर्त कालरुद्रख्यो नमस्तस्मै पिनकिने||

Kraunch vimana while moving around the frozen space slows down automatically as if it entered into a denser medium.Outside of the vimana is getting frozen and vimana is shaking while moving ahead.

VARUNA-” What happened? How did we slow down”?

AGNI-” Do not forget Varuna we are in the realm of Shiva loka,no one has ever known what goes around this place.Yes we have slowed down,it seems like some kind of viscous invisible medium which popped out of nowhere, but still we have not stopped,it is not water or any other liquid.I assume it’s coming from the centre of this void space,WHY HE LIVES IN SUCH A PLACE?”

INDRA-“Watch out what you say Agni! you might not want to offend him in any case.Its the shear extreme out of imagination cold outside which has cooled the space-time matrix itself around us which has slowed us down.The space itself got frozen,the created and uncreated around is frozen,it’s the chill which has formed up into a medium of its own.I wonder how we are surviving and if we are then I believe he is expecting us.”

Kraunch vimaan having jerks while moving forward…

AGNI-” WHAT IS THIS PLACE?It’s very different from Brahmalok and Vaikunth…it is scary and mysterious.”

INDRA- “I once heard about shivaloka from brahma,what you all are going to hear are the words of brahma which described shiva loka to me long long ago…”

“It’s all darkness and nothing exists as far as it can be imagined by a mortal.As one crosses the cosmos it goes into the deep cold dominion of the Adi- IMMORTAL being who was ,is and will always be as such.He lives in a place surrounded by concentric layers.Its the Shiva loka,inverted in shape but has always been in everted shape.Billions of moons and suns shine around it,but still it is extremely cold and outshine all the neighbouring stars.Having innumerable manifestations the shiva loka is some times even not discernable by the other two God heads of TRIMURTI.It is said that the shiva loka is in itself the projection of the mind of shiva who created this loka to sit over and meditate.Divided into innumerable layers having the shape of lingam which look always upright even when seen upsidedown or sideways ,it can’t be understood by mortals.Peculiar organisms having pulsating geometrical shapes float here and there in shiva loka making their own energy.Gravity here goes haywire and even the biggest of the stars revolve around shiva loka as if they are it’s moons or natural satellites.Each second numerous Massive black holes appear in this loka but get consumed up and their matter starts slowly flowing around with a slight bluish glittering tinge.Numerous souls can be seen hovering around a colourful shining Banyan tree like humongous structure whose top covers whole of the sky and roots go deep into the cosmos and derive energy like plants, glowing and moving upwards reaching the top and spreading in concentric manner in the entire universe full of different colours.Below this glowing energy tree sits adi deva mahadeva from whose face fierce gravitational waves and energy can be felt but not seen coming out,he sits at the centre of huge golden disk of galaxy and is always appearing and disappearing from the sight sitting on the same place. 108 energy energy discs are rotating around this loka cutting each other while they move in different planes creating sparks lightening when they cut across each other.From adi deva mahadeva Universal water flows out into the Universe which spreads into the Universe in atomic or molecular form like clouds.The third eye of mahadeva is semi closed and brilliant electric sparks and lightning and unknown energies beam out at a speed faster than light out into deep space in differen directions beating even the mighty QUASARS….

–xxxx–

The Playful girl

A Pickney sitting amidst downs,playing puerilly with HARES nutbrowns

Flumping on the thick grasses, her feet touching the sod,hares there stood out on their rangy paws to see the sweet TOD

Springing out of the grasses WINNINGLY mutterring few lines, toddling around the meadow,chatting with the wind,blowing on the dragonflies,enjoying soliloquilly the times

She sings along the birds which eddy around picking her hairs here and there,with bees and wasps listening to her song the squirrels blithely going merrygoround.

— shishira pathak

A new world: post covid-19 scenario

Corona crisis struck the world on 31st december 2019,just before the new year;at that time world did not know that 34000 people will die in the coming 3 months. However it has taught the world many things like why ancient Indian civilization used to observe distancing,cleanliness,eat cooked foods,discard non-vegetarian food items,grow their own food in their family farms etc in just 2 to 3 months.The birds and animals are enjoying their space which was taken away by man in and around the empty cities and towns.Why this situation arrived,who is/are responsible for all the deaths?Were all the rules that human civilization followed incorrect or unecessary?..these are the questions that need to be answered as the time passes by.In the meantime we must understand that the world in the corona aftermath will change permanently.Following things may change in the coming 20-25 years:

1)ANTISOCIALISM:

Being anti-social may become the new norm and that too forever.It may become inculcated in our future generations to come.The comfort of feeling good in community may get replaced by the comfort of living or celebrating festivities in absence of others.One thought strikes me in respect of this point that,is Hinduism that advanced or had that foresightedness way back in the Gupta era and after that?because it was the time when God became personal thing of every individual,i.e. to say; we have been having diety as idols at our home since the Gupta period only.Its not only astonishing but makes you scratch your head that how could these things which were believed to be obsolete in the Western-USA made so called new world comes to strike you in 2020 AD.

2)A NEW FAITH IN EXPERTS:

Covid-19 has forced people around the world to believe what experts have been and are saying.It was quite easy to sneer the experts before the pandemic.The world became an un-serious community because of the peace afforded to is by technology,luxury and consumer based markets.We forgot to ponder on bigger issues like a global scale Nuclear Holocaust,oil shortage,pandemic etc.This may change,again Indian civilization teaches us the concept of vasudhaiv kutumbakam,the world may adopt this as they are adopting NAMASTE.

3)I,ME AND MYSELF NARRATIVE WILL CHANGE:

After this ends we may be able to see clearly that how our lives are linked with each other.SARS- COV2 virus ends our romance with market based society and toxic individualism.The market models have failed catastrophically and it makes it more dangerous with our self seeking behaviour.Directive principles in Indian constitution copied from Irish constitution which in turn copied it from Spanish in 1937 talks about welfare state but the makers of this concept(Europeans) themselves have failed this concept,how can there be welfare if individualism persists.

4) DIGITAL LIFE WILL BE THE NEW COMMON

The world in corona situation is connecting to each other via digital media,VIRTUAL REALITY programmes may help get people busy which may become a new kind of entertainment.

5) TELEMEDICINE

The traditional healthcare has been overwhelmed by the patients in this situation,doctors and health care personnels are constantly getting exposed to the virus,they also need protection.There will be a paradigm shift how patients meet their doctors.There would also be containment-related benefits to this shift; staying home for a video call keeps you out of the transit system, out of the waiting room and, most importantly, away from patients who need critical care.

6)RULES THAT MADE THIS WORLD WILL NOT APLLY ANYMORE

Our response to coronavirus pandemic has revealed a simple truth: So many policies that our elected officials have long told us were impossible and impractical were eminently possible and practical all along.Now, we know that the rules we have lived under were unnecessary, and simply made society more brittle and unequal.

7) DOMESTIC SUPLLY CHAINS WILL GET STRENGTHENED

Many countries like ours may start focussing on domestic produce.A pre-1991 era may get revived.Globalisation ,privatisation and liberalisation may take a back seat and every nation may start focussing for itself only.World trade is the chief reason for the spread of this pandemic,our interdependency made us vulnerable to pandemic,which may rise if we continue to be so deeply interconnected.World may look back to Asian nations as how they used to carry themselves in the pre-indutrial age era.

8)ECONOMICS MAY GET REPLACED

The biggest cause for covid crisis is economics and money.The present world situation is that it can’t live without money but can live with a pandemic.In the coming decades either money or hard currency concepts will be replaced by a new concept may be Bitcoins or point system.

In short Doomsday Clock is a minute from midnight, and living peacefully and meaningfully together is going to take much more than bed-making and canny investments. The Power of No Habits.

– shishira pathak

Corona is their revenge

Millions of animal mothers have cried,Staring at humans with teary eyes,for their children murdered in from of them,Just to have the taste of their peices…???!!!!

We humans punish each other for homicide but who is to decide punishment for THERIOCIDE.Calves dragged out of their mother’s freshly cut womb calling for their mom while there are throat slit,trying to run but drowning in their own blood.The animal mother pulled up by a crane by the leg with an open cut out womb bleeding but still alive after hearing her baby’s cry for her,gaining and losing conciousness,witnessing her newborn ‘s pain and agony,tears rolling down from her eyes and she looking at the butcher to let her go so that she can atleast lick her with love,but the butcher making fun of the justborn’s dying and laughing in front of her slits open the throat of the mother animal,she also starts bleeding and shaking and trying to get free,just imagine the feeling she would be having at that time; anger? Love? Helplessness?Sorrow?Pain?Fear? or combination of all these emotions.She is still not dead and still watching her just born baby die in front of him,only thought she has in mind is that,

” my dear baby whatever happens I am here for you even if they have cut your throat open

I am there for you bleeding from my open womb and throat,

I am there my baby while you struggle for breathe which these butchers have taken from you,

I am there for you my little child watching you lying on the floor moving your legs trying to run away from this pain,

I am there for you while you call for me in your thoughts,

I am there for you while you want to drink milk while you die,

I am there for you while last of the tears roll down from your eyes when you breath last,

I am there for you if you belive your mother did this to you..

I say to god I am the witness of their cruelty towards us,

I am the witness for their torture towards us

I am the witness for they want to eat us for the sake of just taste

I am the witness for my milk flows out drop by drop for my child who is gasping and dying in front of me..

I am the witness god that you exist only for these demon humans

I am the witness that they have killed us both..

…..Shishira pathak

क्या तुम प्यार करोगी

क्या तुम मुझसे प्यार करोगी ,सीने तुम से मुझे क्या अपने लगाओगी ,

अगर हाँ.. तो जठ पड़े बालों में मेरे अपनी उंगलियों को फेरना,माथे को ज़रा सा सहलाना, अपनी कीमती उँगलियों से मेरे बालों को टटोलना, जो अश्रु न जाने कब से बह रहे हैं मेरे उन्हें मेरे होठो पर से पोछ डालना,

अपनी गुलाबी मखमली हथेलियों से मेरी धूल लग चुकी किस्मत को सहलाओ,गोद में सिर रखूँ अपना अगर तो उसे आहिस्ते से देर तक चूमना,

देखो न ठोकर खा-खा कर इन कांपती हुई लहूलुहान उंगलियों के नख तक टूट चुके हैं,देखो न अब तो पैरों पर लगे छाले भी छिल चुके हैं,

सर्द हवाओं के थपेड़ों ने जो बदन पर मेरे चोट की है उन्हें देखो न,फ़टी हुई चमड़ी से जो रिस रहा है दर्द मेरा उसे देखो न,रुखडे हो चुके होठ मेरे देखो,निर्जीव हो चुकी मीठी आंखों को देखो,देखने से तुम्हारे शायद फिर से जीवंत हो जाऊं,

ज़माने ने जो अनगिनत छेद कर डाले हैं दिल पर मेरे उनसे अब लहू टपकता नहीं,न जाने पहले की तरह मेरा दिल अब क्यों धड़कता नहीं,

पास बुलाओ मुझे गले लगाओ,जो एक आँसू तुम्हारा गिरे मुझपर शायद मैं ठीक हो जाऊं,थरथराते बदन पर जो हाथ फेरो अपने दुलार के मैं पवित्र हो जाऊं,

कानों में मेरे नाम पुकारो मेरा जो जमें हैं आंसू मेरे वो पिघल जाएं,गर्म सांसे जो स्पर्श करें तुम्हारी मुझे तो मुझे थोड़ी नींद आ जाये,सिमट कर रह जाऊं मैं तुममे बस इस आशा में की क्या तुम मुझे कुछ ज्यादा नहीं बस इस तरह थोड़ा सा ही प्यार करोगी ??? — शिशिर पाठक

अभिव्यक्ति

झांक रहा था एक दिन आंखों से अपने मन के ” मैं”; हाँ! मैं देखना चाह रहा था कि अंदर के घने जंगलों के बाहर कुछ है भी या है कुछ भी नहीं,

मैं जो भागना चाहता था उस दिन उस सोते हुए जानवर से जो न जाने कब से सो रहा था,वह कुछ ऐसा महसूस होता था मानो को एक अजगर मुँह खोले बैठ बस साँसों से मुझे खा रहा हो,

सब सिमटे हुए हैं बस इसी विशाल जंगल के अंदर , समझ बैठे हैं दुनिया जिसे वे ,कुछ लोग कमाई को कागज़ से तौलते है और शोहरत को कुछ झूठी बड़ाईयों से

ये जो जंगल है,बड़ा ही खतरनाक है,दो ही जानवर रहते है इसमें जो कि “मैं” और “खुद” हैं कहे जाते।अजीब सी विडम्बना है –“मैं”खुद को जीने नहीं देता और “खुद” के बिना “मैं”आसतीत्व ही नहीं,लेकिन दोनों एक दूसरे के दुश्मन हैं।

झांक रहा था कि “खुद“परेशान हो गया क्योकि “मै” की थोड़ी ख्वाहिशें पूरी नहीं हो रहीं थीं।

बादल छा गए उस जंगल पर,घनघोर वर्षा हुई,इतने में मन आया और बोला “सब ठीक ही जायेगा”;इतना सुन” खुद को नींद आ गई और मेरा “मैं” सो गया। –शिशिर पाठक

हमने क्या किया

हम मानव क्यों नहीं बन सकते।कब तक हम एक पशु की खाल में मानव होने का ढोंग करेंगे। विधाता ने हमें मानव बनाया था और हम एक नृशंश पशु से भी अधिक कठोर बन गए हैं और आने वाली पीढ़ी को भी यही बनने की शिक्षा दे है हैं।हमें बस आज़ादी चाहिए चाहे वह किसी भी चीज़ की क्यों न हो जैसे-अपने हिसाब से कपड़े पहनने की,जो जी चाहे वो करने की,जो मुँह में आये वो बक देने की,अपने से बड़े-बूढो की अवज्ञा करने की उन्हें पुरातन और खुद को नवीनतम दर्शाने की,समाज के सहारे समाज से ऊपर उठ कर समाज को नीचा दिखलाने की आदि-आदि। मानव को जो क्रमिक विकास ने बुद्धि दी है उसका प्रयोग हमारे पूर्वजों ने खुद को जंगली जानवरों से भिन्न करने के लिए किया था,खुद को नियम और कानूनों में बाँधा था जैसे सुबह की पहली किरण से पहले उठना, समय और भोजन करना,आपस मे मेलजोल करना,शादी-विवाह में सोंच समझकर आगे बढ़ना,बुरे लोगों से खुद को और बच्चों को दूर रखना,गलत और बुरी सोंच को मन न पलने देना इत्यादि।लेकिन आजकल हम वापिस एक पशु की भांति व्यवहार कर रहे हैं। एक पशु जो किसी भी बंधन से जुड़ा नहीं रहता अगर वो जुड़ा रहे तो उसकी पशुता कम हो जाती है।वह जो मर्जी करता है,जहाँ मन वहाँ सोता है,जब मन किया उस समय आपस में लड़ाइयाँ करता है।ज्यादातर पशुओं का यही हाल है।एक जंगली पशु सिर्फ मौसम के बंधन को छोड़ किसी और बन्धन से जुड़ा नहीं रहता। गाय और कुत्तों की बात अलग है क्योंकि वे हमारे बीच बहुत दिनों से हैं और देखा जाए तो कुत्ते प्रकृति में प्राकृतिक रूप से पाए भी नहीं जाते क्योंकि उन्हें मानव ने अपने इस्तेमाल के लिए हजारों हजार साल पहले भेड़िये या सियार के हाइब्रिड के रूप में बनाया था,इसलिए उनकी पशुता बाकी के जानवरों से कम है और मानवीय गुण जैसे प्यार-दुलार,लगाव,बुद्धिमत्ता आदि ज्यादा हैं।लेकिन आज के मानव हज़ारों वर्ष पहले के प्रथम कुत्ते से भी अधिक पशुता वाला बन चुका है।कोई भी शिकारी जानवर बिना मतलब के शिकार नहीं करता उसे जितनी भूख लगती है उतना ही खाता है और इंसान ट्रॉफी हंटिंग के लिए शिकार करते हैं।आदमियों में मानवीय गुण धीरे-धीरे विलुप्त होते जा रहे हैं। न कोई आजकल एक दूसरे की मदद करना पसन्द करता है और न हीं मिलना जुलना।आजकल मानव सिर्फ पैसे कमाने के लिए जन्म लेते हैं, कुछ क्रिएटिव करना जो उनकी सहज प्रवृत्ती में जन्मजात था वो खत्म ही हो चुका है।आजकल 12-13 साल के बच्चे माँ-बाप बन रहे हैं,किशोरावस्था से पहले वे एडल्ट होने के सभी गुर सीख ले रहे हैं जब कि उन्हें पहले बच्चा/किशोर कैसे बना जाए यह सीखना चाहिए और इनके जिम्मेदार कोई और नहीं उनके बड़े ही हैं।उनके बड़े यानी हम लोगों ने उन्हें ऐसा वातावरण दिया है जिसमे उनका बचपन रहा ही नहीं है,टेलिविज़न पर जो अश्लील गाने के साथ नँगा नाच होता है वह उनका किशोर दिमाग समझ नहीं पाता और उसे ही सच्चाई मां बैठता है। मुझे याद है कि बचपन के दिनों में जब भी कोई गलत लफ़्जों वाला या शॉर्ट ड्रेस वाला गाना टेलेविज़न पर चलता था तो हमारे माता पिता चैनल चेंज कर के न्यूज़ लगा देते थे पर आजकल के माता-पिता शायद ऐसा नहीं कर रहे हैं।बड़े बुजुर्ग बोला करते थे की टेलेविज़न से 8 फ़ीट की दूरी ओर बैठो वरना आंखे खराब हो जाएंगी पर अब तो माता और पिता बच्चे के रोने से अपना पिण्ड छुड़ाने के लिए उसके हाथ में मोबाइल दे देती हैं जिसे वो निहारते रहता है जो कि उसकी कोमल आँखों से महज कुछ इंच ही दूर रहता है 8 फ़ीट तो भूल ही जाइये,जिसके चलते उनकी कोमल आंखों में अभी से डार्क सर्कल्स बनने लगे हैं।ऐसा इसलिए क्योंक अब बड़े बुजुर्ग ओल्डएज होम में भेज दिए जाते हैं या न्यूक्लीयर फ़ैमिली में सिर्फ बच्चे और उनके बिजी माता पिता रहते हैं। कुछ बात खान-पान की कर लें,मानव इतने हद तक गिर चुके हैं कि वे खाने की चीज़ों में अधिक से अधिक मिलावट कर रहे हैं।सब्जियों में ऑक्सीटोसिन के इंजेक्शन और नकली दूध बेच रहे हैं।आजकल किशोर- किशोरियों को रेप्रोडक्टिव समस्याएं हो रहीं हैं वो इन्हीं की देन है ।मांसाहार भी हमारी समस्या बढ़ा रहा है। मुर्गे और मुर्गियों के डिंबों में स्टेरॉयड और एंटीबायोटिक की अत्यधिक मात्रा रहती है जिसके चलते इन्हें खाने वाले बच्चे और उनके माता-पिता मोटापे और कमजोर हड्डियों वाली बीमारियों के शिकार हो जाते हैं।ऑक्सीटोसिन जो कि सब्जियों में सुई के रूप में दिया जाता है उस से गर्भपात होने की समस्या हो सकती है।आये दिन हमलोग अखबार में ivf के बारे में पढ़ते ही रहते हैं। मानव शरीर के अंदर बाहरी दुनिया से हवा,पानी और खाने के अलावा कुछ और अंदर नहीं जाता और हमने इन तीनो को दूषित और अब तो जहरीला बना दिया है वो भी ऐरफ पैसे के लालच में,क्या जीवन बस पैसे कमाने के लिए है? जिस तरह एक जानवर को पता नहीं होता की अगले पल क्या होने वाला है उसी तरह आज हमें पता नहीं होता कि आगे क्या होने वाला है,क्योंकि हम बस पैसे कमाने में व्यस्त है,मानव आने वाले भविष्य को समझ सकने वाला एकमात्र प्राणी है पर हम सिर्फ आज में जीने वाले एक पशु बन कर रह गए हैं,और दूसरों को प्रोत्साहित भी करते हैं कि प्रेजेंट में जियो,कुछ साल पहले दूरदर्शिता को एक गुण माना जाता था पर अब नहीं। आजकल लोग वाचाल/बातूनी बन गए हैं,वाचाल/बातूनी होना आजकल एक टैलेंट पर कुछ ही दिनों पहले एक गाली माना जाता था। हम जिस समाज के टैक्स पर पलते- बढ़ते हैं उसी से पूछते हैं कि समाज ने हमारे लिए किया क्या है। आखिर हमने यह किया क्या,हमने आसमान से साफ हवा खत्म कर दी,धरती से स्वच्छ पानी खत्म कर दी,भोजन को हमने दूषित कर दिया,अपने बच्चो से उनकी मासूमियत छीन कर उन्हें समय से बहुत पहले मानसिक और शारीरिक रूप से एडल्ट बना दिया,बड़े-बुज़ुर्गों को अकेला छोड़ दिया,और खुद के वैवाहिक सम्बंध को भी पाक न रख सके।हमने आखिर किया क्या?क्या इसी को खुली सोंच वाला होना कहते हैं? क्या इसी को किसी भी तरह का एम्पावरमेंट(वुमन/सोशल/इकनोमिक/पोलिटिकल आदि) कहते हैं? क्या यही एक विकसित सोंच है?क्या यही आज़ादी है? क्या मानव जीवन सिर्फ नाम और पैसा है?क्या मानव होना दूसरे को नीचा दिखाना है? क्या मानव सिर्फ पृथ्वी का और एक दूसरे का दोहन करने के लिए जन्मे हैं?इन सवालों का जवाब कब और कौन देगा और क्या दे भी पायेगा?….. शिशिर पाठक

सन्नाटा

आधी रात का वक़्त सन्नाटा और मैं, हाथ मे कलम,मेज़ पर सादा पन्ना और घड़ी की टिक-टिक;सोच रहा हूँ कि क्या लिखूं,खिड़की से आति हुई ठंडी हवा जंगले के बाहर अंधेरे को काटती हुई चाँद की रोशनी,दूर-दूर तक रात को किसी की आवाज़ नहीं,बस घड़ी की टिक-टिक,ट्यूबलाइट में होती बिजली की आवाज़ और मैं।

क्यों न आज कुछ लिखूँ, सोंच ही रह था कि सन्नाटा मुझसे बातें करने लगा,सन्नाटा ऐसा जो रात की अंधियारी में ज़ोर से कह रहा हो अरे मैं यही हूँ ज़रा सुनो मुझे, देख नहीं पाओगे लेकिन कान लगा कर सुनो तो मुझे,हाँ और ध्यान से सुनो,महसूस करो शांति को जिसे मैन अपने रग-रग में समाए रखा है,इसी के लिए तड़पते हो न तुम ? हाँ वही शान्ति है मेरे पास,गले नहीं लगाओगे?? बिल्कुल घुप अंधेरा के बीच हूँ,न कोई अहसास हूँ न किसी की आवाज़ हूँ मैं,मैं वो हूँ जिसे तुम सन्नाटा कहते हो,मैं कुछ नहीं और सबकुछ हूँ।

हर रोज़ आता हूँ मैं जब तुम सो जाते हो,शांति जो मेरी संगिनी है संग उसे लाता हूँ, पर तुम तो आँखे बंद किये सपने देखते हो वह जो तुम करने की इच्छा रखते हो वो सपने,कभी तो मिलो मुझसे, दो प्याली चाय तो पिलाओ एक-दो समोसे तो खिलाओ,आखिर सन्नाटा हूँ मैं।

सन्नाटा हूँ पर अकेला नहीं हूँ तुम्हारे जैसा,मैं और शांति रोज़ रात की कड़क चांदनी में घूमा-खेला करते हैं,बाते करते हैं,शांति जिसके लिए ये सब मरते हैं वो सिर्फ मेरे पास है और रहेगी,वो मेरे साथ अनंत काल से है और आगे भी रहेगी, पूछते हो क्यो? क्योकि…..मैं सन्नाटा जो ठहरा।

सन्नाटा जो इतना खूबसूरत है,हर तरफ फैला हुआ है बादलों में,आसमाँ में,बहती हुई हवा के साथ,ठंड में,सिहरन में,शांति में,बारिश के पहले और बाद,मैं जीवन से परिपूर्ण हूँ खुद में सम्पूर्ण हूँ; सभी चीज़ के पहले और बाद में आखिर सन्नाटा ही तो होता है,या यूं कहूँ की शुरुआत और अन्त मुझ से ही होता है।

— शिशिर पाठक

Treta

Chapter 2.0

K.S(kalki samvat) 401:

Almost 4 centuries have passed since the the kalki and his 4 colonels{The horsemen} wiped off the greedy and inhumans from the face of earth often referred to as the last war before the new creation.Although some managed to survive but now very few believe that such a war ever happened.The world that was is finished,atomosphere is full of ions,free radicals and nascant gases; the moon is shattered but its pieces and chunks still shine at night(The last cleansing war tore the moon to pieces);its raining continuously for 200 years in a row,the earth is so hot though not molten that raindrops evaporate before reaching ground,crops are grown in forcefield houses{ thin film of heated up charged bosons} which are dome like structures with controlled environment.Humans are now interplanetary species.WELCOME TO THE AGE OF CYBERNETIC SYMBIOSIS where biological entities are living symbiotically with machines.In this age machines have become so efficient that they derive energy from biological entities,the food a bio-form eats not only sustains itself but also provides energy to the symbiotes {THE BIO-MACHINES}. Cybernetic form has its own benefits,it enables humans to live for 150 years of disease free life,prevents ageing,repairs any damage from inside,protects from fractures,bruises and makes energy absorption from food more efficient i.e, more time to live and less to eat and sleep.Humans have the option to remain in base bio-human form or become the cybernetic symbiote, but they have to go through painful life-threatening procedure and sometimes which gets fatal(The reason VIKRITS want to revert to bio form).Base humans need protection from diseases,environment and mostly from the VIKRITS: Sub-biomechanical organisms who want to return to basic human forms,they detach the captured ones from machines, forcibly kidnap,intimidate and keep bio-humans as hostages in large megapolices{made by vikrits} so that they do not opt for becoming half man and half machines.The vikrits believe it’s not natural to live for 150 years,moreover with a success rate of 73% the procedure to convert humans to MACHANO-HUMANS have killed people in millions.Those who niether die nor become cybernetic organism have very painful and miserable life;their flesh rots and is again and again repaired by the whatever machine they have got left inside them.They live for years which is full of rotting and repairing never ending cycle,they live a life of a destitute and have been named VIKRITS living outside the globopolises made for mechanohumans .When their machine form takes over they live healthy and normal life but when their bio form takes over their body starts to decay,they rot with lots of flies and maggots; full of stench of their own rotting body,experiencing excruciating pain.So far only one of the vikrits has managed to have the best of both worlds his name is SIDDHA and is the leader of vikrits on earth. He is the one who managed to control the traces of machines inside him by his will power garnered through activating the seven chakras and controls other vikrits.

—xxxx—